राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर1800 425 00 000

बैंक का प्रोफाइल

बैंक का प्रोफाइल

बैंक की स्थापना से लेकर अब तक का संक्षिप्त इतिहास

1907 ·         बैंक को 5 मार्च, 1907 को 20 लाख की अधिकृत पूंजी के साथ स्थापित किया गया और 15 अगस्त, 1907 को बैंक ने अपना व्यवसाय शुरू किया।

·         वर्ष 1907 में, इंडियन बैंक लिमिटेड ने अपने प्रतीक के हिस्से के रूप में ‘बरगद’ वृक्ष को अपनाया था जो प्रत्येक क्षेत्र में प्रगति, सर्वत्र विकास और निरंतर बढ़ती हुई समृद्धि का द्योतक था।

1921 ·         बैंक की पूंजी रु.20 लाख से बढ़कर रु.60 लाख हो गई।
1932 ·         बैंक ने रजत जयंती मनाई।

·         बैंक ने कोलंबो में पहली विदेशी शाखा खोली।

1941 ·         सिंगापुर शाखा खोली गई।
1957 ·         बैंक ने स्वर्ण जयंती मनाई।
1967 ·         बैंक ने हीरक जयंती मनाई।
1978 ·         एक केंद्रीय बिंदु बनाते हुए तीन चक्करदार तीर के रूप में बैंक के लोगो को स्वीकृति मिली।
1982 ·         बैंक ने प्लेटिनम जुबली मनाई।
1990 ·         157 शाखाओं वाले बैंक ऑफ तंजावुर लिमिटेड (बीओटी) को बैंक के साथ समामेलित किया गया।
2006 ·         महामहिम राष्ट्रपति श्री ए पी जे अब्दुल कलाम द्वारा 4 सितंबर को शताब्दी वर्ष समारोह का उद्घाटन किया गया।
2007 ·         बैंक फरवरी, 2007 में प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव लाया।
2008 ·         100 प्रतिशत कोर बैंकिंग सॉल्यूशंस (सीबीएस) का अनुपालन किया गया।
2019 ·         इंडियन बैंक द्वारा प्रायोजित पल्लवन ग्राम बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक द्वारा प्रायोजित पांडियन ग्राम बैंक के सफल समामेलन के बाद 1 अप्रैल 2019 को ‘तमिलनाडु ग्राम बैंक’ का परिचालन शुरू हुआ।

·         भारत सरकार ने इंडियन बैंक में 155 वर्षों की विरासतवाले इलाहाबाद बैंक के समामेलन की घोषणा की।

2020 ·         बैंक ने 1 अप्रैल, 2020 को समामेलित इकाई के रूप में परिचालन शुरू किया। दोनों बैंकों के सीबीएस सिस्टम का एकीकरण 14.02.2021 को पूरा किया गया।
2022 ·         बैंक ने ₹10 लाख करोड़ से अधिक का वैश्विक कारोबार प्राप्त किया।

 

शाखा नेटर्वक

देशी शाखाएं    : 5721                  विदेशी शाखाएं  : 3

 

यथास्थिति 30.06.2022 को बैंक का निष्पादन

कारोबार :

  • जून, 2021 में रु.929708 करोड़ के सापेक्ष जून, 2022 में कुल कारोबार में वर्ष-दर-वर्ष 9% की रिकार्ड वृद्धि दर्ज करते हुए यह रु.1009454 करोड़ हो गया।
  • विगत वर्ष में रु.389626 करोड़ के सापेक्ष जून 2022 में अग्रिमों में 9% की वृद्धि होकर यह रु.425203 करोड़ हो गए, यह वृद्धि मुख्यतः रैम क्षेत्र (12%) से हुई जिसमें से खुदरा, कृषि व एमएसएमई में क्रमशः 14%,13% व 8% की वृद्धि हुई। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार पर अग्रिमों में 2% तक की वृद्धि हुई है। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार पर अग्रिमों में 2% तक की वृद्धि हुई है।
  • गत वर्ष में रु.540082 करोड़ के सापेक्ष जून 2022 में कुल जमा वर्ष-दर-वर्ष 8% बढ़कर रु.584251 करोड़ रही।
  • जून 2022 में कासा जमाओं में वर्ष-दर-वर्ष 8% की वृद्धि होने से यह रु.237967 करोड़ हुआ। घरेलू जमाओं में घरेलू कासा की हिस्सेदारी, पिछले वर्ष के 41.42% के सापेक्ष जून 2022 में 41.29% रही। कासा में हुई वृद्धि मुख्यतः चालू जमा खाता में वर्ष-दर-वर्ष 14% वृद्धि एवं बचत जमा खाता में वर्ष-दर-वर्ष 7% वृद्धि के कारण हुई है।
  • प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र के पोर्टफोलियो में मार्च 2022 के रु.148806 करोड़ के सापेक्ष जून 2022 में रु.159653 करोड़ की वृद्धि हुई। प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र के अग्रिमों का प्रतिशत एएनबीसी की 40% की विनियामक आवश्यकता के सापेक्ष 46.91% है।

पूंजी पर्याप्तता

  • पूंजी पर्याप्तता अनुपात (सीआरएआर) 16.51% रहा। सीईटी-I में वर्ष-दर-वर्ष 96 बीपीएस की वृद्धि से यह 12.53% रहा। टियर-I पूंजी में वर्ष-दर-वर्ष 95 बीपीएस की वृद्धि से यह 13.17% रही।

आस्ति गुणवत्ता

  • सकल गैर निष्पादक आस्तियों में वर्ष-दर-वर्ष 156 बीपीएस की कमी आने से यह 9.69% से 8.13% हुआ, निवल गैर निष्पादक आस्तियों में वर्ष-दर-वर्ष 135 बीपीएस की कमी आने से यह जून 2021 के 3.47% के सापेक्ष 2.12% रहा।
  • जून 2021 में 82% के सापेक्ष प्रावधान कवरेज अनुपात (पीसीआर) में वर्ष-दर-वर्ष 608 बीपीएस वृद्धि होने से यह 88.08% रहा।

परिचालन लाभ एवं निवल लाभ

  • जून 2021 के रु.1182 करोड़ के निवल लाभ के सापेक्ष जून 2022 में यह वर्ष-दर-वर्ष 3% बढ़कर रु.1213 करोड़ रहा। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार पर मार्च 2022 में रु.984 करोड़ के सापेक्ष इसमें 23% की वृद्धि आई।
  • जून 2021 के रु.3416 करोड़ के परिचालन लाभ के सापेक्ष जून 2022 में यह वर्ष-दर-वर्ष 4% बढ़कर रु.3564 करोड़ रहा। क्रमिक तिमाही-दर-तिमाही आधार पर मार्च 2022 में रु.2738 करोड़ के सापेक्ष इसमें 30% की वृद्धि आई।

डिजिटल पहल

  • आयकर रिटर्न के लिए खातों की जांच हेतु ईवीसी वेरिफिकेशन का कार्यान्वयन।
  • नेट बैंकिंग एवं मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से चेगआउट सेवा – ग्राहकों को वास्तविक समय पर कीमत तुलना की सुविधा।
  • इंडओएसिस के माध्यम से फॉर्म 15जी/15एच को जमा करना।
  • पीपीएफ़, एफ़डी, आरडी और एसजीबी की संभावित लीड्स के लिए पूर्वानुमान मॉडल तैयार करना।

वित्तीय समावेशन

  • दिनांक 08.2014 को पीएमजेडीवाई के शुरू होने से अब तक बैंक ने 187.32 लाख आधारभूत बचत बैंक जमा खाते खोले हैं।
  • 109.96 लाख बीएसबीडी खाताधारकों को रुपे कार्ड जारी किये गये।
  • बीसी नेटवर्क की मौजूदगी 24 राज्यों और 05 केंद्र शासित प्रदेशों में है।
  • पीएमजेडीवाई खातों की आधार पर मार्केट शेयर 4.08% है, बकाया 4.48% है।

 

वित्तीय वर्ष 2023 की प्रथम तिमाही के दौरान कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व :

  • वेंगीक्कल पंचायत, तिरुवण्णामलै में सार्वजनिक पुस्तकालय का निर्माण
  • मदर टेरेसा पीजी एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड साइंस, पुदुच्चेरी को यूवी-विस स्पेक्ट्रोफोटोमीटर
  • उदयपुर जिले में आदिवासी क्षेत्र के सरकारी विद्यालयों के विद्यार्थियों को स्टेशनरी
  • डॉ. बी आर अंबेडकर विश्वविद्यालय, आगरा व श्री घाघरबुरी चंडी माता मंदिर, आसनसोल को आरओ एवं वाटर कूलर
  • गुरु गोबिन्द सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली द्वारा चलाई जा रही एंबुलेंस को जीवन-दायक मेडिकल उपकरण

( अंतिम संशोधन Aug 05, 2022 at 05:08:23 PM )

आद्या से पूछें
ADYA